Get Free whatsapp & Facebook Status

Category: 2 line status

Best 211+ impressive quotes IN HINDI



वो मेरी फ़िक्र तो करती है मगर प्यार नहीं

यानी पायल में घुँघरू तो हैं झंकार नहीं

 

 

 

लग रहा है भूल गए हो शायद,
या फ़िर कमाल का सब्र रखते हो।

 

 

 

यादें उन्ही की आती हैं जिन से कुछ तालुक हो,

हर शख्स मोहब्बत की नज़र से देखा नहीं जाता

 

 

 

हर रात को बेहद कर गया,…

ख़्वाबो में आकर वो मुहब्बत कर गया!!

 

 

 

रखना है तो फूलों को तू रख
ले निगाहों में.

ख़ुशबू तो मुसाफ़िर है खो जाएगी राहों में..

 

 

 

Zara Sa Ghum Hua Aur Ro Diye Hum,

Badi Naazuk Tabiyat Ho Gayi Hai …!




Es qadar aam bhi kahan tha woh shakhs,

Ki mujhe zindagi mein mil jata …!

 

 Main kahan kho gaya hun batlaao ?

Aakhiri baar tum ne dekha tha …!

 

 

Ashq Nikla Hai Koi, Haath Mein Patthar Le Kar..

Mujh Se Kehta Hai, Tere Zabt Ka Sarr Phodunga. !

 

 

 Ye na jaane the ki uss mehfil mein dil reh jayega,

Hum ye samjhe the chale aayenge dum bhar dekh kar. !!

 

 

Ye aur baat hai ki tere rubaru nahi guzra,

Main jis azaab se guzra hun tu nahi guzra …!

 

 

 Ab main khamosh agar rehta toh izzat jaati,

Mera dushman mere kirdaar talak aaya …!

 

 Wahan Wahan Se Utha Di Gayi Hain Deewaarein,

Jahan Jahan Se Tera Ghar Dikhayi Deta Hai…!

 

 Tum se Wada Wafa Nahi Hogi,

Soch Lo Aur Abhi Mukar Jaao…!

 

 

 Meri Dhadkan Ki Bandish Pe Zaamane Ke Maseeha Ne,

Mohabbat Ko Toh Ghum Likha Tujhe Uski “Dawa” Likha …!

 

 

 जो बात हम में है ना,,,

वो न तो तुझमें हैं और न ही मुझमें हैं

अपनी ताक़त पे जिसे नाज़ है उस से पूछो,

क्या जनाज़ा भी वो ख़ुद अपना उठा सकता है?

एक हम ही नहीं परेशान याद में,

उनकी आंखों का काजल भी कुछ बिखरा सा लगता है

 

 

 किरदार की अज़मत को गिरने न दिया हमने,
धोखे तो बहुत खाए, धोखा न दिया हमने.

 

 

Umra Ka To Kaam Hai Dhalna
Tum Magar Muhbbat To Jaari Rakhte

 

 

उम्र का तो काम है ढलना.,
तुम मगर मुहब्बत तो जारी रख़ते …

 

 

ज़रा सा गुम हुआ और रो दिए हम

बढ़ी नाज़ुक तबियत हो गई है

 

 

Kal tera zikr aa gaya ghar mein,

Aur phir badi der tak ghar mehekta raha..

 

 

 Kitne Suljhe Hue Tareeqe Se,

Mujh Ko Uljhan Mein Daal Dete Ho …!

 

 

 Maa Se Kya Kahengi Dukh Hijar Ka ,

Ki Khud Par Bhi Itni Chhoti Umar’on Ki Bachiyan Nahi Khulti ..!

 

 

 Aaj Kal Kis Se Muhabbat Hai Tumhein ?

Aaj Kal Kis Ke Liye Paagal Ho ..?

 

 

Main hawa mein haath hila kar laut aaya,

woh abb bhi rail mein baithi sisak rehi hogi …!

 

 

Ek Roz Iss Tarah Bhi Mere Baazuon Mein Aa,

Mere Aadab Ko Teri Hayaa Ki Khabar Na Ho …!

 

 

 Koi Aaye To Chhipa Deta
Hoon Ghar Ke Deepak Saare,

You’n Chipata Hoon Andhero Me Andhere Ghar Ke…



 Banana padta tha aksar bigaad kr khud ko…!!!

Mene rakh hi diya tod taad kr khud ko…!!!

Meri chahato ka khayal kr….!!!!

Mai udaas hoon mujhe call kr…!!!

 कसम ख़ुदा की मैंने उसको तुम्हें समझकर चूमा था
फिर तुम दोनों बहनें भी तो दिखने में इक जैसी हो

 Mat pooch kis tarah se Guzar Rahi hai zindagi,

Us Daur Se Guzar Raha hoon jo Guzarta hi nahi.

ऐसा डूबा हूँ तेरी याद के समंदर में “फ़राज़”

दिल का धड़कना भी अब तेरे कदमों की सदा लगती है

 तेरा नेमुल बदल नहीं कोई
तू फकत एक ही तो था मेरा

अब मैं झगड़ा करूँ तो किससे करूँ
अब तो तू भी नहीं रहा मेरे पास

Ek Aur Baar Meri Ayaadat Ko Aaiye,

Achhi Tarah Se Main Abhi Achha Nahi Hua …!

Tujhe Khabar Nahi Hum Dekh Kar Bauht Roye,

Nayi Kitaab Mein Tasveer Ek Puraani Teri …!

Dono Ka Milna Mushkil Hai, Dono Hain Majboor Bahut..

Uss Ke Paaon Mein Mehndi Lagi Hai, Mere Paaon Mein Chhaale Hain.. !

 Husn Ki Chhed-chhaad Na Ho Toh,

IshQ Kab Waardaat Karta Hai …!

ज़रूरी नहीं कि इश्क में बांहों के सहारे ही मिलें,

किसी को दिल से जी भर के महसूस करना भी मोहब्बत है…

कभी टूटा नहीं मेरे दिल से आपकी याद का तिलिस्म फ़राज,

गुफ़्तगू जिससे भी हो ख़्याल आपका रहता है

 ज़ुबां को छू लिया है फिर उस उंगली ने..

कोई पन्ना, फिर गुज़रने को है…

दिन से एक कारोबारी रिश्ता है,
दोस्ती मेरी सिर्फ़ रात से है…!!



Jise ISHQ ki hawa lagi,

Usse phir na Dawa lagi na Dua lagi..

Mujhe bhi yun to badi aarzoo hai jeene ki

Magar sawal ye hai kis tarah jiya jaye

हर रात जान-बुझकर खुला रखता हू दर अपना……

कि कोई तो हो लुटेरा… जो मेरे सारे गम लूट ले जाए…

 मुकाम औरत का फिर जान गया वो,
बना था बाप जब वो एक बेटी का…

खुबसूरत सा वो पल था

, पर क्या करें वो कल था…

चेहरे के रंग बोल उठेंगे उनके,,,,
उनसे जाकर बस बात छेड़ दो हमारी..

Surama ankho me lagane se bhala kiya hasil,
Mehndi hatho me lagao to koi baat bane….

मेरे दिल में तेरे लिए प्यार आज भी है.. माना कि तुझे मेरी मोहब्बत पर शक आज भी है

नाव में बैठकर जो धोए थे हाथ तूने.. पूरे तालाब में फैली मेंहदी की महक आज भी है…

Phole pathchard ke sab aj dhund la gye,
Mere hatho me mehdi rachi ki rachi reh gyi..?

Bin bulaye aa jata hai, Sawal nahi karta,

Tera khyal to mera bhi khyal nahi karta.

Mere alfaz be asar hain,

Thahro! dhandkane sunata hun

 गले मिलता हैं वो हर मज़हब से

लगता हैं वो किसी इंसान जैसा

 मुझे दुगनी मुहब्बत से सुनो, उर्दू ज़ुबां वालो….

मैं हिन्दी मां का बेटा हूं, मैं घर मौसी के आया हूं

ladka tha, jo hansta tha chhoti-chhoti baaton par,

Magar ye baat purani hai, jaane kitne saalon ki.

शौक़-ए-शायरी के नाम पर ही दिल की बात कह जाते हैं हम,

और कई लोग गीता पर हाथ रख कर भी सच नहीं कह पाते है…

Mai Tumhare Hi Dum Se Zinda Hu,

Marr Hi Jau Jo Tumse Fursat Ho..

 दास्तान खत्म होने वाली है,
तुम मेरी आखिरी मोहब्बत हो



 Dil ko huzur chikhne chillaane dijiye…!!!

Jo aapka nahi hai use jane dijiye….!!!

 Ghum-e-hijr se na dil ko kabhi hum-kinaar karna,

main phir aaunga palat kar mera intezaar karna.

 Ishq wo hai.. Jab main sham ko milne ka wada karu..

Or… Wo din bhar suraj ke hone ka afsos kare

 Mohabbat hai gar to mijaz zara naram rakhiye…

Ziddi Hone se ishq-e-sukoon me khalal padta hai

Koi sulah kara de zindgi ki uljhano se

Badi talab hai aaj mukurane ki

 Bahut ucha kalakar hu zindgi ke rang manch ka

Sahab

Majal hai dkhne walo ko mera dard dikh jae

वो जुनून कही जो ना मिट सके, जो ना मिल सके वो क़रार दे,

मैं उसुल ए इश्क़ की बिसात हु, तू गुरुर ए हुस्न से मात दे…

दरमियां…. चाहे इश्क़ हो… अश्क हो… या रश्क हो
शर्त बस इतनी है जो भी हो, “सच हो”….?

 वो तो तुम याद आ गईं वरना
मैं तुम्हें भूलने ही वाला था

शमसुल हसन “शम्स”

world best love status

 

 जब इश्क ए एहसास
साँसों में समा जाता है..

घटता हुआ चाँद भी
पुरा नजर आता है…

 

वो मुझसे पूछती है…ख्वाब किस किस के देखते हो……
:
बेखबर जानती ही नही…यादें उसकी सोने कहाँ देती है……



मुझ पर दोस्तों का प्यार , यूँ ही उधार रहने दो ।
बड़ा हसीन है ये कर्ज , मुझे उनका कर्जदार रहने दो।

 

हम तो आईना थे ; हैं-और आईना ही रहेंगे।।
फ़िक्र वो करें
जिनकी शक्लो में कुछ और-दिल में कुछ और है।

 

💕बिना आहट के इन आँखों से दिल में उतरते हो तुम
वाह सनम क्या लाजवाब इश्क करते हो तुम ….!!
💕❤❤



उसकी याद 👩🏻हमें बेचैन 🙇🏻 बना जाती हैं 😭 हर जगह 💑 हमें 👩🏻उसकी 😘 सूरत नज़र 👀 आती हैं ❤ कैसा 😢 हाल 💔किया हैं 👦🏻 मेरा 💔 आपके 💘 प्यार ने 😢 नींद भी 😭 आती हैं 😏 तो 👀 आँखे 😭 बुरा 😡 मान 💔 जाती हैं 

 

 💕 तेरे पास होने से या ना होने से मतलब ही क्या है हमको
💕 हमने तेरे हर एहसास से मोहब्बत की है सनम
तेरे नजदीकीयो से नही🌹

 

हर कोई अपना लगता था कभी हमको भी…

आज इतने अकेले हैं कि खुद से ही पराये हो गये…



💕खुशबू से भीग जाएगा तेरे दिल का हर कोना

मेरे दिए गुलाब” को ज़रा छूकर” तो देखिये…®💕

 

सुन तो
💕चुरा सकती हो तो दिल चुरा के दिखाओ मेरा

मेरी पोस्ट तो हर कोई चुरा लेता है…®💕

 

👫#किसी🤫_से👸 ऐसा 👫#रिश्ता🤝🤝 भी बन 😊जाता💁 है,,😍
की हर 😘#चीज🙏 से🤺 पहले 👉💖👈उसी 🗣का 👸#ख्याल👍🏻 😘#आता_है 😘😍😍
❤💕मेरी🙇🏻 👆मंज़िल🏃🏻 😌उसे🤵🏻पाना👫 नही❎😏….
❔बस ❗एक☝🏻 दुवा🙏🏻 है रब🖕🙅🏻‍♂ से, उसे🤵✌🏻कभी 👸 भी 🤬🙈रुलाना 🙆नहीं….💕❤



मुस्कुराने की आदत भी कितनी महेंगी पड़ी हमको……..

भुला दिया सबने ये कहकर की तुम तो अकेले भी खुश रह लेते हो…….

 

.सच वह दौलत है जिसे पहले ख़र्च करो और ज़िंदगी भर आनंद करों ..।।

।।..झूठ वह क़र्ज़ है जिससे क्षणिक सुख पाओ पर ज़िंदगी भर चुकाते रहो ..।।

 

🌷🌷…..ए जिंदगी तू खेलती रहे हमारी खुशियों के साथ,

🌷🌷…..हम भी इरादे के पक्के है जो मुस्कुराना नहीं छोड़ेंगे !!

 

खामोशियां जिनको अच्छी लग जायें…

वो फिर…………बोला नहीं करते….!💓

 

मेरे दिल से खेल तो रहे हो तुम पर…… जरा सम्भल के…… ये थोडा टूटा हुआ है कहीं तुम्हे ही लग ना जाए…….!!

 

💕💕दिल है मेरा इक अजीब शहर!!!

💕💕जिसको भी बसाया,वही खो गया!!!

 

 बाजार लगा है जनाब खुद के फायदों का हर पल यहाँ ,

दूसरों की जरूरतों की कीमत जहाँ अक्सर कम लगाई जाती है..!!

 

 

“मैं गलत था शायद, आखिर था भी पहला प्यार,
वो सही ही होगी, उसे पहले भी हुआ था कई बार !!

 

 

संगत का जरा ध्यान रखना साहब , संगत आपकी ख़राब होगी और

बदनाम माँ बाप के संस्कार होंगे ।

 

“कितनी भी सच्ची मोहब्बत कर लो,
बेवफा लोग साथ छोड़ ही देते है !!

 

 

बसी हूं मैं जिनमें तेरी वो नज़र चाहिये…!!

तेरे जैसा नहीं तू ही हमसफ़र चाहिये….!!!!

 

आज दिल कर रहा था, बच्चों की तरह रूठ ही जाऊ,
पर फिर सोचा, उम्र का तकाज़ा है, मनायेगा कौन!!

 

ताले लगा दिए दिल को अब उसका अरमान नहीं,

बंद होकर फिर खुल जाए ये कोई दुकान नहीं !!



गुनाह यूं कुछ हो गये हमसे अंजाने में

फूलों का कत्ल कर दिया पत्थरों को मनाने में……..🐾✍🏼

 

“आज तक तूने जितने भी झूठ बोले उन में से,
मैं सिर्फ तेरी हूँ ये line मेरी सबसे favourite है !!

 

 

😫एहसास 🙈बहुत 💆होगा 😒जब छोड़ 🙋कर 🏃⛷जायेगे 🏃
😢रोयेगे 🤫बहुत 😭मगर आसू 👀👈नहीं ✍🏻आयैगै 💪
🗣जब साथ 👎👥कोई न ✊दे तो 🙅🏻‍♂आवाज 💃हमें👦 देना
👆आसमा🤺 पर 🙏होगे तो👇 भी लोट ✌🏇आयेगे

 

“दर्द क्या होता है वो बेवफा क्या जाने,
उसे तो हर कदम पर वफा ही मिलती है !!

 

वही कारवां वही रास्ता वही मंजिल मगर,

अपने अपने मुकाम पर कभी तुम नहीं कभी हम नहीं।

 

मैं क्यूँ कुछ सोच कर दिल छोटा करूँ,
वो उतनी ही कर सकी वफ़ा जितनी उसकी औकात थी !!

 

शर्तों में कब बांधा है, तुम्हे ऐ ज़िंदगी…!

ये उम्मीद के धागे है, कभी तुम नही.. कभी हम नही…!!

 

तबाह कर के मुझे चैन से वो कहाँ होगा…

मुझे बुझा के वो खुद भी धुआं धुआं होगा….

 

 😘 महफिल चाहे 👉 प्यार 👈 करने ❤ वाले से 👫 भरा हुआ ही 💏 क्यों न हो 😘 उसमे 💑 रौनक तो 💔 टुटा हुआ ❤ दिल ही लाता 💘 है 💛…..

 

💜इतनी बदसलूकी ना कर ऐ जिंदगी हम कौन सा यहाँ बार बार आने वाले है !!💜👌

 

 कुछ चेहरे कभी भुलाये नहीं जाते;😍👀👉😊

कुछ नाम दिल💕💦😜💍 से मिटाए नहीं जाते;

मुलाक़ात हो या न हो, लेकिन अऐ यार;😘😘

प्यार के चिराग कभी 😍👩👉👨❤बुझाये नहीं जाते!

 

 चलो आज फेंकते हैं एक कंकड़, ख्यालों के समंदर में,
कुछ खलबली तो मचे, एहसास तो हो कि जिंदा हैं हम।



💞💞मैं कुछ लिखूँ और तेरे अक्स की खुशबू न हो…

💞💞उफ्फ्फ्फ…..! ये तो तौहीन होगी मेरे लफ़्ज़ों की

 

“ये शायरियाँ कुछ और नहीं बेइंतहा इश्क है,…
💕💕
*तड़प उनकी उठती है और “दर्द” लफ्जों में उतर आता है”!!!

 

@ 💕तुम्हारी शायरी  में हमने देखा,, अजब सी चाहत झलक रही है.❣✍
💕हमारी ग़ज़ल को पढ़ के देखो ,, तुम्हारी खुशबु महक रही है.💕✍

 

 💞 तेरा मेरा रिश्ता इतना खास हो जाये
कि तू दूर रहकर भी मेरे पास हो जाये💕
💞 मन से मन का तार जुड़े कुछ इस तरह
कि दर्द हमें हो और अहसास तुम्हे हो जाए…।💕

 

मौसम ए इश्क़ है तू , जिंदगी में, एक कहानी बन के आ…

भिगो दे, जो मेरी रूह को , तू वो बूँद. वो पानी बन के आ…

 

💞💞
तुम सा हसीन जमाने मे क्या होगा!
💜बिना मिले ये हाल हे…..
मिलोगे तो जाने क्या हाल होगा…..💘💖💝

 

💖💖💖 बस तुम कोई उम्मीद दिला दो मुलाकात की

फिर इन्तजार तो हम सारी उम्र कर लेंगें💖💖💖

 

 कैसे अजीब लोग बसे है तेरी दुनिया में ऐ खुदा…

शौक ए दोस्ती भी रखते है और याद भी नहीं करते..

 

सिर्फ एक ही तमन्ना रखते हैं हम अपने दिल में…!

💕💕मोहब्बत से याद करो,, चाहे मुद्दतो न बात करो…

 

 ❣तुम याद नही करते,,💞 हम तुम्हे भुला नही सकते…
तुम्हारा और हमारा रिश्ता इतना खूबसूरत है.. 💞💞

👉तुम सोच नही सकते,,,, हम👈बता नही सकते……✍

 

इंतज़ार है हमे आपके आने का,
वो नज़रे मिला के नज़रे चुराने का,
मत पूछ ए-सनम दिल का आलम क्या है,
इंतज़ारा है बस तुझमे सिमट जाने का…



“चलो मिलें फिर उसी मोड़ पर कहीं…
कुछ ज़ख़्म नए, और कुछ हंसी पुरानी…!!

 

 खुदा सलामत रखे उनकी आँखों की रौशनी…

‘जिनकी नजरों को हम चुभते बहुत हैं…!!

 

 दिल को बेचेन कर रही हे हिचकियां

तुम हर वक्त मुझे सोचा न करो 💕💕

 

 

 लिखना कुछ नहीं आता हमें, मगर फ़िर भी…

चंद लम्हे लफ़्ज़ों में बांटने की तलब रहती है..!!

 

जब कुछ नहीं रहा पास तो रख ली तन्हाई संभाल कर मैंने..

ये वो सल्तनत है जिसके बादशाह भी हम, वज़ीर भी हम, फकीर भी हम…

 

 कितना भी…
ज्ञानियों के साथ बैठ लो,
“तजुर्बा”
बेवकूफ बनने के बाद ही मिलता है।



दौलत तो ले के निकले हो तुम जेब में मगर…

मुमकिन नहीं किसी का मुक़द्दर ख़रीद लो….

 

 कहने को शब्द नहीं…लिखने को भाव नहीं

दर्द तो हो रहा है पर..दिखाने को घाव नहीं

 

जिसकी मस्ती ज़िंदा है उसकी हस्ती ज़िंदा है…

वरना यूँ समझ लो कि वह ज़बरदस्ती ज़िंदा है…

 

 समझे बिना किसी को पसंद ना करो और समझे बिना किसी को खो भी मत देना।

क्योंकि फिक्र दिल में होती हैं शब्दों में नहीं और गुस्सा शब्दों में होता हैं दिल में नहीं॥

 

 तुमने कहा था आँख भर के देख लिया करो मुझे,

मगर अब आँख भर आती है तुम नजर नही आते हो।

 

 कोई खास अहसास ही छू पाता है रूह को

यूँ तो मुहब्बतों में दावे हजारो करते हैं



तेरी रूह को छु लेने के लिए
बस कुछ लफज़ ही काफी है……
कह दो बस इतना
तेरे साथ जीना अभी बाकी है..

 

दो क़दम अगर साथ चलना है तो ज़रा सोंच लेना,
हम मोहब्ब्त और नफ़रत में कबर तक साथ देते हैं !!

 

💞💞जो दिखाई देता वो हमेशा सच नहीं होता..

💞💞कही धोखे में आँखे है तो कही आँखों में धोखा है!

 

दस्तक और आवाज तो कानों के लिए है,,

जो रुह को सुनाई दे उसे खामोशी कहते हैं…

 

रिश्तों में निख़ार सिर्फ
हाथ मिलाने से नहीं आता,

विपरीत हालातों में हाथ

 

 ज़िन्दगी में एक ऐसे इंसान का होना बहुत ज़रूरी है

जिसको दिल का हाल बताने के लिए लफ़्ज़ों की जरुरत न पड़े



दुनियां धोखा देकर अक्लमंद हो गई

और हम विश्वास कर के अपराधी हो गए…

 

 

latest shayari in hindi




Un ko gharoor-e- hussn hai, mujh ko gharoor-e- ishq,

Woh bhi nashe mein choor hai, main bhi piye hue..

 

Aao husn-e- yaar ki baate kare,

Zulf ki, rukhsaar ki baate kare



Tujhe roz dekhu kareeb se
,
Mere shauq kitne ajeeb se..

 

 Mere hath mahke hai tamaam din,

Jab tere khawb mein baal sanware mene..

 

 Uss zulf ki, us ke lab ki baate,

Yaad Aayi mujhe, ghazab ki Raate..



Kabhi to kuch nayi adaa dikhaiye ab,

Yeh roothna to aap ka sau baar ho chuka

 

 Hai qayamat bhi Ek cheez lekin,

Teri angrrayi jeet jaye gii..

 

 Uff teri mast adaaye, yeh shokhpan,

Kirnon ko bhi choone na du badan tera..

 

 Sadke jau main iss naaz ke andaaz pe,

Mera khat dekha, uthaya muskuraa ke rakh diya.



Uss Shoki-e-Guftaar Pe Aata Hai Bohat Pyar,

Jab Pyar Se Kehti Hai Wo, Shaitaan Kahee’n Ka..!

 

Kaajal, Aankhain, Zulfain, Jhumke, Chehra, Bindiya,

Haaye Dil Haar Gaye Hum Tujhe Be- Naqaab Dekh Kar

 

 खुवाहिशे लिख रहा…. बस तेरे जज़्बात चाहिये . तेरे नाम के साथ ….. बस अब मेरा नाम चाहिये . तेरी ख़ुशियों मे … हम शायद शामिल न हो ……….. लेकिन तेरे ग़म मे … मेरा नाम आबाद चाहिये ।……..

 

 उसने तारीफ़ ही कुछ इस अंदाज से की मेरी,

अपनी ही तस्वीर को सौ बार देखा मैंने !!

 

 तेरे आगोश में दम तोड़ गई कितनी हसरतें_
फिर किसने तेरा नाम मोहब्बत रख दिया___!!

 

 QurbatoN mein bhi juda’ee ke zamaanay maaNge
Dil wo be-mehr ke roonay ke bahaanay maaNge.

 

 बेमतलब की सिफारिशें लिए बैठा है दिल,
भला चांद भी कभी हो सकता है हासिल..

 

Tum Aao Gi To, Phoolo’n Ki Barsaat Karu’n Ga,

Mousam K Farishte Se, Meri Baat Ho Chuki Hai…

 

 Hai Hont us ke Kitabon mein likhi Tehriron jaise,

Ungli Rakho To Aage Parhne ko Jee Karta hai..!!

 

 Kaha Maine Ke Kab Ye Zindagi Khushboo Lagi Tum ko ???

Woh Bola Be-Khayali Mein Tujhe Jab Chhoo Lia Maine …!



 Shararat Le kr aankhon mein, wo uska dekhna tauba??

Main nazron pe Jami nazrein, jhukaana bhooL Jaata hoon…!!

 

 तुझे चाहा बहुत पर हक़ ना जताया कभी,

खुद तो तड़पे पर तुम्हे ना सताया कभी..

 

 Ishq Sufi ,Na Mullah , Na Aalim Hai….

Ishq Zalim Hai ,Zalim Hai, Zalim Hai

 

Bewajah Preshan Rahe Wo Jo “Samjhdar” The

Jo “Nadaan” The Hmesha Mukurate Mile

 

Sone Ki Jagah Roz Badlta Hu Main
Lekin
Ek Khawab Kisi Trah Badlta Hi Nhi

 

 Kis Ko dekha Hai Ye Hua Kya Hai..

Dil Dhadkta Hai Majra Kya Hai

 

जो चीज़ जहाँ थी
वहीं पर रखी है
कि गंगा वहीं है
कि वहीं पर बँधी है नाँव

इस शहर में
शाम धीरे-धीरे होती है..!!
-बनारस-

 

 

अगर कभी तेरे नाम पर जँग हो गई तो
हम ऐसे बुज़दिल भी पहली सफ़ में खड़े मिलेंगे

 

 

 बेवजह परेशान रहे वो जो समझदार थे,

जो नादान थे हमेशा मुस्कुराते मिले..

 

 

 अधूरी है तो अधूरी ही रहने दो मौहब्बत मेरी

जो हो जायेगी मुकम्मल तो शायरी की कद्र ना होगी…

 

 बस सब तो सही है,

मैं परेशां अपने आप से हूँ….



पेड़ मुझे हसरत से देखा करते थे

मैं जंगल में पानी लाया करता था

 

 दास्ताँ हूँ मैं इक तवील मगर

तू जो सुन ले तो मुख़्तसर भी हूँ

 

 Udaasi cheekhti hai kehkahon mai,

Humara dard sabse mukhtalif hai..

 

 मैं जिस के साथ कई दिन गुज़ार आया हूँ

वो मेरे साथ बसर रात क्यूँ नहीं करता

 

 

 वो जिस की छाँव में पच्चीस साल गुज़रे हैं

वो पेड़ मुझ से कोई बात क्यूँ नहीं करता

 

Apne aap ke bhi peeche khada hun main

Zindagi dekh kitna dheere chala hu main

 

 Mere do chaar khwaab hain jo main aasmaan se door chahta hu

Zindagi chahe gumnaam rahe par maut main mashhoor chahta hu

 

 Nazar Ko Humne, Nazar Se Ek Din
Nazar Milate, Nazar Se Dekha..
Mili Nazar Jo, Nazar Se Unki,
Nazar Churate, Nazar Se Dekha..



 yun toh aata hai har shaks Duniya me marne ke liye,

Zindagi uski jiske maut par zamaana afsos Kare

 

 आशिक़ी में बहुत ज़रूरी है

बेवफ़ाई कभी कभी करना

 

 

 ऐ सनम जिस ने तुझे चाँद सी सूरत दी है

उसी अल्लाह ने मुझ को भी मोहब्बत दी है

 

उस चाँद के हज़ारों चाहने वाले थे,

वो क्या समझेगा एक सितारे की कमी को..

 

कोई भी घर से निकलता नहीं मरने के लिए !
मरने वाले भी किसी काम से निकले होंगे !

 

 Agaz-e-mohabbat se anjam-e-mohabbat tak

guzra hai jo kuch ham par tum ne bhi suna hoga

 

 Aakhen jo uthae to mohabbat ka guman ho

nazron ko jhukae to shikayat si lage hai

 

 aaj ‘tabassum’ sab ke lab par

afsane hai mere tere

 

जी में जो आती है कर गुज़रो कहीं ऐसा न हो,

कल पशेमाँ हों कि क्यों दिल का कहा माना नहीं



 Aate Aate mera naam sa rah gaya

us ke honton pe kuch kanpta rah gaya

 

Ab judai ke safar ko mere Asan karo

Tum mujhe ḳKhawab me aa kar na pareshan karo

 

Abhi aaye ho abhi jaa rhe ho jaldi kya hai dam le lo

Na chunga main jaisi chahe tum mujh se qasam le lo

 

Aziz itna hi rakho ki ji sambhal jae

Ab is qadar bhi na chaho ki dam nikal jae



 Badan me jaise lahu Taziyana ho gaya hai

Use gale se lagae zamana ho gaya hai

 

Baharon ki nazar me phool aur kante barabar hai

Mohabbat kya karenge dost dushman dekhne waale

 

आदत छूटती नहीं,
हसरत कर ही लेते है।
दर्द छुपते नहीं,
बगावत कर ही देते है…🤐

 

Be-Sabab Yun Hi Sar-e-Shaam Nikal Aate Hain,

Hum Bulayein Toh Unhein Kaam Nikal Aate Hain.

 

ये पेड़ ये पत्ते ये शाखें भी परेशान हो जाएं,

अगर परिंदे भी हिन्दू और मुस्लमान हो जाएं।

 

मेरी शायरी का असर उनपे हो भी तो कैसे हो ?

कि मैं एहसास लिखता हूँ तो वो अल्फाज़ पढ़ते हैं।



वाकई पत्थर दिल ही होते हैं हम दिलजले शायर,

वर्ना अपनी आह पर वाह सुनना कोई मज़ाक नहीं।

 

 शेर-ओ-सुखन क्या कोई बच्चों का खेल है?

जल जातीं हैं जवानियाँ लफ़्ज़ों की आग में।

 

 न मैं शायर हूँ न मेरा शायरी से कोई वास्ता,

बस शौक बन गया है तेरी बेवफाई बयाँ करना।

 

उन्हें सच्चाई का एहसास तो हो जाने दो,
मुझको सोचेंगे ढूढेंगे पुकारेंगे और रो देंगे।

 

मोहब्बत बसा कर तूने मेरी साँसों में..!!

💞साँस_साँस का मुझे मोहताज कर दिया…

 

 तुम भूल गए मुझे चलो अच्छा ही हुआ,

किसी एक की रातें तो सुकुन से गुजरे।
🍁

 

मेरे बिना क्या अपने आप को सँवार लोगे आप..?

“इश्क़” हूँ, कोई जेवर नही, जो
उतार दोगे आप.

 

 जिंदगी तुझसे हर कदम पर समझोता क्यों किया जाए,

शौक जीने का है, मगर इतना भी नहीं कि मर मर कर जिया जाए।💞💞

 

तुम जिन्दगी में आ तो गये हो मगर ख्याल रखना,

हम ‘जान’ दे देते हैं मगर ‘जाने’ नहीं देते !!

 

 नही है शिकवा हमे किसी की बेरुखी से…..

शायद हमे ही नही आता किसी के दिल में घर बनाना…

 

 🌸जिन्हें महसूस इंसानों के रंजो-गम नहीं होते….,
〰♦〰
वो इंसान भी हरगिज पत्थरों से कम नहीं होते…..!🌸

 

 🌹काश हम कंगन होते,,,प्यार से तुम पहन लेते…..

कलाई तुम्हारी होती,,,और कैद में हम होते…..🌹

 

मुझे इसलिए भी लोग कमज़ोर समझते है

मेरे पास ताक़त नहीं किसी का दिल तोड़ने की..



ख़ामोश सा शहर और गुफ़्तगू की आरज़ू ।

हम किससे करें बात, कोई बोलता ही नही ।।

Topstatus4you.com © All rights reserved 2018